वैश्वीकरण का अर्थ और आयाम


वैश्वीकरण का अर्थ और आयाम


विशाल कुमार गुप्ता


वैश्वीकरण क्या है? (What is Globalization?) 

वैश्वीकरण एक प्रक्रिया (Process) है, जबकि वैश्विकृत विश्व (Globalized World) लक्ष्य है, जिसे हासिल किया जाना है। साधारणत: यह एक आर्थिक संकल्पना है परंतु इसके राजनीतिक, सांस्कृतिक, प्रोद्योगिकी आयाम भी हैं। वैश्वीकरण आखिरकार क्या है? इसके प्रमुख घटक क्या है? इसके लिए वैश्वीकरण की कोई सार्वभौमिक एवं निश्चित परिभाषा नहीं है। सामान्य अर्थों में वैश्वीकरण से तात्पर्य भौगोलिक सीमाओं का न होना तथा भौगोलिक दूरियों की समाप्ति को माना जा सकता है। अर्थात् अलग-अलग राष्ट्रों (देशों) एवं व्यक्तियों से संबंधित विचारों, तकनीकों, संस्कृतियों तथा अर्थव्यवस्थाओं के बीच घटती दूरियां तथा अदान-प्रदान है।

वैश्वीकरण के कारण (Reasons Behind Globalization)
 

दुनिया के राष्ट्रों और लोगों के बीच कम होते इस फासले के कई कारण है, जैसे कि :-
        विज्ञान एवं तकनीक का विकास
        देशो के बीच आपसी निर्भरता
        घटनाओं का विश्वव्यापी प्रभाव
        बड़े पैमाने पर उत्पादन एवं नये बाजारों की तलाश
        उत्पादन, औद्योगिक संरचना एवं प्रबंधन का लचीलापन
        अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय एवं वाणिज्यिक संस्थाए (विश्व बैंक, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष एवं विश्व व्यापार संगठन)



वैश्वीकरण का इतिहास (History of Globalization)


वैश्वीकरण की उत्पत्ति को लेकर कुछ विद्वानों का मत है कि वैश्वीकरण बीसवीं शताब्दी की देन है, किंतु हमें यह भी बात ध्यान रखनी चाहिए कि वैश्वीकरण अलादीन के चिराग के जिन की तरह अचानक से बीसवीं शताब्दी में उत्पन्न नहीं हुआ। बल्कि इसका स्वरूप तो प्राचीन काल से ही विकसित होता चला आ रहा है। इतिहासकार, साधु-महात्मा तथा राजा तब धन, शक्ति और ज्ञान की तलाश में नए-नए मार्गों की तलाश करते हुए दूर-दराज की यात्राएं करते थे। उदाहरण स्वरूप रेशम मार्ग जो चीन से लेकर यूरोप तक फैला हुआ था, जो दुनिया के एक बड़े भू-भाग को आपस में जोड़ता था और आर्थिक रूप से लोगों के जीवन को प्रभावित कर रहा था।
मध्यकाल में भी चंगेज खान तथा तैमूर लंग के साम्राज्य ने विश्व के एक बड़े भू-भाग को जोड़ा जिसे आधुनिक वैश्वीकरण का अल्पविकसित रूप माना जा सकता है। परंतु वास्तविक वैश्वीकरण की शुरुआत आधुनिक काल में विशेषकर औद्योगिकरण के बाद शुरू हुई। जिसने विश्व को समेटकर एक वैश्विक गांव (Global Village) का रूप देने की कोशिश की।
कुछ विद्वानों का मानना है कि प्रथम विश्व युद्ध से पूर्व वैश्वीकरण का नेतृत्व ब्रिटेन ने किया और दूसरे विश्व युद्ध के बाद उसका नेतृत्व अमेरिका ने किया। वैश्वीकरण शब्द का प्रचलन बीसवीं शताब्दी के अंतिम दो दशकों यानी 1980 एवं 1990 के दशक में जब शीत युद्ध का अंत और सोवियत संघ के बिखराव के बाद आम हो गया। इस प्रक्रिया में पूरे विश्व को एक वैश्विक गांव की संज्ञा दी जाती है। वैश्वीकरण के संदर्भ में अर्थशास्त्रियों का मानना है कि वैश्वीकरण के चार अंग होते हैं

अर्थशास्त्रियो के मतानुसार वैश्वीकरण के 4 अंग होते है...

     व्यापार-अवरोधों को कम करना जिससे उत्पादों एवं वस्तुओ का विभिन्न राष्ट्रों के बीच बिना बाधा के आदान-प्रदान हो सके।

ऐसी स्थिति का निर्माण करना, जिसमे विभिन्न राष्ट्रों के बीच पूंजी/धन का स्वतंत्र प्रवाह हो सके।

ऐसा वातारण कायम करना, जिसमे विभिन्न राष्ट्रों के बीच तकनीक का मुक्त प्रवाह हो सके, और;

ऐसा वातारण कायम करना, जिसमे विभिन्न राष्ट्रों के बीच श्रम का निर्बाध प्रवाह हो सके।

इस प्रकार वैश्वीकरण के चार अंग होते हैं, किंतु विकसित राष्ट्र अमेरिका एवं फ्रांस जैसे यूरोपीय राष्ट्र वैश्वीकरण की परिभाषा पहले तीन अंगों तक ही सीमित कर देते हैं और अपने-अपने राष्ट्रों में विकासशील और अविकसित राष्ट्रों से आने वाले श्रमिकों पर कठोर वीजा नीति के माध्यम से कड़ा प्रतिबंध लगाते हैं। इस कारण से वैश्वीकरण की खूब आलोचनाएं भी होती है।
इस प्रकार, हम कह सकते हैं कि विश्व स्तर पर आया खुलापन, आपसी मेल-जोल और परस्पर निर्भरता के विस्तार को ही वैश्वीकरण कहा जा सकता है।

वैश्वीकरण के आयाम (Dimensions of Globalization)


वैश्वीकरण एक बहुआयामी प्रक्रिया है, जिसके आर्थिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक एवं प्रौद्योगिकी आयाम है। इसके विभिन्न आयामों पर विश्लेषण निम्नलिखित है:-

आर्थिक आयाम (Economic Dimensions)


वैश्वीकरण का सबसे महत्वपूर्ण आयाम आर्थिक आयाम है। इसमें बाजार, निवेश, उत्पादन एवं पूंजी का प्रवाह आते हैं। विश्व के लगभग तमाम विकासशील और अविकसित राष्ट्रों के पास निवेश के लिए पूंजी का अभाव था। इस निवेश की कमी को पूरा करने के लिए इन राष्ट्रों में विदेशी पूंजी यानी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की चाहत लगातार बढ़ती जा रही थी, ताकि वे अपने राष्ट्र का विकास कर सकें। ऐसी परिस्थितियों का लाभ उठाते हुए वैश्वीकरण की प्रक्रिया ने पूरे विश्व को विश्व व्यापार के दायरे में घसीट लिया। वैश्वीकरण के आर्थिक आयाम को हम निम्न प्रकार से समझ सकते हैं।

सकारात्मक प्रभाव

वैश्वीकरण के कारण दुनिया के राष्ट्रों के बीच व्यापार काफी बढ़ा है, जिस कारण वैश्वीकरण में शामिल इन राष्ट्रों के बीच आपसी निर्भरता भी काफी बढ़ी है। अलग-अलग राष्ट्रों की जनता, व्यापार और सरकार के बीच जुड़ाव बढ़ता जा रहा है। इस खुलेपन के कारण दुनिया के ज्यादातर आबादी की खुशहाली बढी है। इस कारण से वैश्वीकरण के समर्थक इसको दुनिया के लिए वरदान मानते हैं।
आज वैश्वीकरण के कारण पूरी दुनिया में वस्तुओं के व्यापार में बढ़ोतरी हुई है। पहले अलग-अलग राष्ट्र अपने यहां दूसरे राष्ट्रों से होने वाले आयात पर प्रतिबंध और भारी भरकम टैक्स लगाते थे, लेकिन अब यह प्रतिबंध कम हो गए हैं। जिसका लाभ यह हुआ है कि अमीर राष्ट्रों के निवेशक अपना पैसा गरीब राष्ट्रों में लगा सकते हैं, खासकर विकासशील और अविकसित राष्ट्रों में जहां मुनाफा अधिक होगा। इस निवेश से इन पिछड़े राष्ट्रों में ढांचागत संरचनात्मक विकास, तकनीक और रोजगार के अवसरों में वृद्धि होती है। जिससे राष्ट्र विशेष की जनता का जीवन स्तर भी ऊपर उठता है।
वैश्वीकरण की इस प्रक्रिया में विश्व व्यापार संगठन जैसे संगठन ने अंतरराष्ट्रीय व्यापार नीति निर्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। पहले अंतरराष्ट्रीय व्यापार में ‘जिसकी लाठी उसकी भैंस’ की परिस्थितियां थी, लेकिन आज सभी राष्ट्र व्यापारिक एवं श्रम कानूनों से बंधे हुए हैं। जिसका उल्लंघन करने पर विश्व समुदाय द्वारा उस राष्ट्र विशेष पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं

नकारात्मक प्रभाव

वैश्वीकरण पूंजीवादी व्यवस्था मुक्त व्यापार एवं खुला बाजार पर आधारित है। मुक्त व्यापार एवं खुला बाजार की नीति ने जहां व्यापार के लिए रास्ते खोले वहीं उसी रास्ते से अमेरिका, इंग्लैंड, फ्रांस जैसे विकसित राष्ट्रों की बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने विकासशील राष्ट्रों में अपने पांव जमा लिए, जहां नुकसान की भरपाई के लिए मुख्य रूप से राष्ट्र जिम्मेदार होता है, जबकि फायदा बड़ी-बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियां ले उड़ती है। उदाहरण स्वरूप आप भारत में घटी भोपाल गैस त्रासदी की घटना को देख सकते हैं।
वैश्वीकरण के कारण जहां बड़ी-बड़ी कंपनियां राष्ट्र में आती हैं, वहीं छोटी-छोटी देसी कंपनियां एवं स्थानीय स्तर पर होने वाले लघु एवं कुटीर उद्योग धीरे-धीरे तकनीक और गुणवत्ता की रेस में पिछड़ते हुए समाप्त होते जा रहे हैं। वैश्वीकरण की प्रक्रिया में उत्पादन बड़ी-बड़ी मशीनों द्वारा बड़े स्तर पर किया जा रहा है। जिस काम को जहां पहले कई-कई लोग मिलकर करते थे, आज यह मशीनें उन कामों को आसानी से कम समय एवं लागत पर करने में सक्षम है। जिसके कारण विकासशील राष्ट्रों में एक बड़ी जनसंख्या के सामने बेरोजगारी की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। वैश्वीकरण की प्रक्रिया के अंतर्गत संगठित क्षेत्र में रोजगार के अवसर कम हुए हैं। इसीलिए गरीब राष्ट्रों की अधिकांश जनता असंगठित क्षेत्रों में काम करने के लिए विवश है। जहां पर उत्पादकता एवं जीवन स्तर भी काफी निम्न है। यहां रोजगार से जुड़ा एक तथ्य यह भी है कि वैश्वीकरण मुख्यतः वस्तु, पूंजी, तकनीक और श्रम के स्वतंत्र प्रभाव पर आधारित है। लेकिन विकसित राष्ट्र वैश्वीकरण के चौथे अंग श्रम का स्वतंत्र प्रवाह की नीति को अनदेखा कर दूसरे राष्ट्रों से रोजगार की तलाश में आने वाले प्रवासियों के प्रति नकारात्मक रवैया अपनाते हैं और अपनी कठोर वीजा नीति के माध्यम से इन पर नियंत्रण रखते हैं।


राजनीतिक आयाम (Political Dimensions)


वैश्वीकरण के कारण राष्ट्र द्वारा किए जाने वाले कार्यों में व्यापक बदलाव आया है। वैश्वीकरण की इस अंधी दौड़ में शामिल सरकारों को यह तय करने का अधिकार कम कर दिया है कि अपने राष्ट्रवासियों के लिए क्या अच्छा है और क्या बुरा। इस परिस्थिति ने राष्ट्रों के अंदर एक अजीब से हालात पैदा कर दिए हैं। सरकारें वैश्वीकरण के आगे घुटने टेकते नजर आ रही है। प्रत्येक राष्ट्र में कुर्सी पर बैठे लोगों की जनता द्वारा कड़ी आलोचना की जाती है परंतु फिर भी सरकार बदलने के बाद भी मौजूदा हालातों में कोई खास परिवर्तन होता नहीं दिख रहा है। वैश्वीकरण के राजनितिक आयाम को हम निम्न प्रकार से समझ सकते हैं।

सकारात्मक प्रभाव

वैश्वीकरण के समर्थकों का मानना है कि वैश्वीकरण के कारण राष्ट्र पहले की अपेक्षा अधिक शक्तिशाली हुए हैं। तकनीक के विकास एवं सूचना तथा विचारों की तीव्र गतिशीलता ने राष्ट्रों की क्षमता में बढ़ोतरी की है और वह अपने जरूरी कामों उदाहरण स्वरूप कानून व्यवस्था बनाए रखना, बाहरी आक्रमणों से राष्ट्र की सुरक्षा करने जैसे कार्यो को पहले से अधिक अब ज्यादा अच्छे और बेहतर तरीके से कर पा रहे हैं। आज उत्पादन वैश्विक स्तर पर किया जा रहा है। विश्व के तमाम राष्ट्र परस्पर निर्भर है। ऐसे में कोई भी राष्ट्र अपना आर्थिक नुकसान करके युद्ध का खतरा नहीं उठाना चाहता। तमाम राष्ट्र अपने कूटनीतिक संबंधों द्वारा अपने आपसी विवादों को हल करना चाहते हैं। साथ ही साथ इस आर्थिक जुड़ाव के कारण वैश्विक समस्याओं जैसे आतंकवाद और अभी देखे तो कारोना जैसी वैश्विक महामारी से निपटने के लिए साझा कार्रवाई को प्रोत्साहित किया है।

नकारात्मक प्रभाव

वैश्वीकरण के आलोचकों का मानना है कि इसके कारण राष्ट्रों के कार्य करने की क्षमता में कमी आई है। अब विभिन्न राष्ट्रों की संप्रभुता यानी निर्णय करने की शक्ति कमजोर हुई है। पूरे विश्व में कल्याणकारी राष्ट्र की जन-कल्याण नीतियां प्रभावित हुई है। अब न्यूनतम हस्तक्षेपकारी राष्ट्र की धारणा को विस्तार मिल रहा है। आज के समय में राष्ट्र कुछ महत्त्वपूर्ण कार्यों तक ही अपने आपको सीमित रख रहे हैं। उदारीकरण, निजीकरण और वैश्वीकरण के इस दौर में राष्ट्रों ने पूंजीवादी अर्थव्यवस्था को अपनाया है। जिसमें उनको अहस्तक्षेप की नीति अपनानी पड़ती है। जिसके कारण गरीब और कमजोर वर्गों के लिए किए जाने वाले सुधार कार्य प्रभावित हुए हैं।
आज के दौर में लगभग सभी राष्ट्र अपनी विदेश नीति को अपनी इच्छा अनुसार तय नहीं कर पा रहे हैं। जिसका प्रमुख कारण इन राष्ट्रों की घटती शक्ति को माना जा रहा है। पूरे विश्व में विकसित राष्ट्रों की बहुराष्ट्रीय कंपनियां अपने पैर पसार चुकी हैं। यह तमाम बहुराष्ट्रीय कंपनियां विकासशील राष्ट्रों में सरकारों को प्रभावित कर राष्ट्र की नीतियों को अपने फायदे के लिए परिवर्तित करवा रहीं हैं। जिस कारणवश सरकारों की स्वयं निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित हुई है।

सांस्कृतिक आयाम (Cultural Dimensions)

वैश्वीकरण के इस तूफान ने दुनिया के हर हिस्से, समाज एवं समुदाय को प्रभावित किया है। संस्कृतियों का फैलाव अब केवल कला या संगीत के जरिए नहीं, बल्कि विश्व व्यापार संगठन जैसे संगठनों के नेटवर्किंग के जरिए हो रहा है। वैश्वीकरण के सांस्कृतिक आयाम को हम निम्न प्रकार से समझ सकते हैं।

सकारात्मक प्रभाव

वैश्वीकरण की प्रक्रिया में लोगों का एक राष्ट्र से दूसरे राष्ट्र में आवागमन महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। उदाहरण स्वरूप भारतीय लोग थाईलैंड, मलेशिया, मॉरिशस, सिंगापुर, वेस्टइंडीज गए और अपने साथ-साथ वहां भारतीय संस्कृति को भी ले गए। जिसे उन्होंने सुरक्षित रखते हुए उसे व्यवहारिक एवं जीवित रखा। सांस्कृतिक वैश्वीकरण में वेशभूषा जैसे जींस, साड़ी, कुर्ता-पजामा इत्यादि एवं खान-पान का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उदाहरण स्वरूप मैकडॉनल्ड का बर्गर आपको दुनिया के किसी भी राष्ट्र की राजधानी में मिल जाएगा। वैश्वीकरण की इस प्रक्रिया को बर्गराजेशन कहा जाता है।

नकारात्मक प्रभाव

आज वैश्वीकरण के इस दौर में टीवी और इंटरनेट जैसे माध्यमों से विकासशील राष्ट्रों की जनता को विज्ञापनों से इतना प्रभावित कर दिया जाता है कि उनके पास कोई विकल्प ही नहीं बचता। टीवी और इंटरनेट के माध्यम से बहुराष्ट्रीय कंपनियां उपभोक्तावाद और पश्चिमी मूल्यों का प्रचार-प्रसार कर रही है।
विकासशील और अविकसित राष्ट्र खासकर अमेरिकी सांस्कृतिक पर प्रभुत्व के शिकार है। सीएनएन जैसे समाचार चैनलों के माध्यम से अमेरिका अपने सांस्कृतिक मूल्यों को विस्तार देने में लगा हुआ है। इसके अलावा पेप्सी, कोका-कोला, रीबोक, एडिडास जैसे उत्पाद; एमटीवी, एचबीओ जैसे मनोरंजन चैनल्स; मिकी माउस, बैटमैन, सुपरमैन जैसे काल्पनिक चरित्र; मैकडॉनल्ड जैसी फास्ट फूड श्रखंलाए; एमवे जैसे उत्पाद अमेरिकी जीवन मूल्यों को विश्व के राष्ट्रों पर थोपने के साधन साबित हुए हैं। इससे विकासशील और अविकसित राष्ट्रों की मौलिक संस्कृति पर पहचान का संकट खड़ा हो गया है।
इसके नकारात्मक पक्षों में एक महत्वपूर्ण तथ्य यह भी है कि पश्चिमी जीवन मूल्यों ने विकासशील राष्ट्रों की जनता खासकर बच्चे और युवा जल्द से जल्द अमीर बन पाश्चात्य दैनिक जीवन की सभी सुख सुविधाएं हासिल करना चाहते हैं। इस तरह उनको आसानी से गलत रास्ते पर ले जाया जा सकता है और उनका शोषण किया जा सकता है।

प्रौद्योगिकी आयाम (Technology Dimension)


हमने उपरोक्त चर्चा की कि वैश्वीकरण एक ऐसी व्यवस्था है जिसका उदय विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों में हुए विकास के कारण हुआ एवं जिसका उपयोग व्यापार तथा वाणिज्य के क्षेत्र में हुआ। इस दृष्टिकोण से वैश्वीकरण में प्रौद्योगिकी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। वैश्वीकरण के प्रौद्योगिकी आयाम को हम निम्न प्रकार से समझ सकते हैं।

सकारात्मक प्रभाव

प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हुए क्रांतिकारी परिवर्तनों ने दुनिया को वास्तव में एक वैश्विक ग्राम बना दिया है। संचार व्यवस्था में आई क्रांति ने विश्वव्यापी संपर्क को काफी तेज कर दिया है। टेलीफोन, मोबाइल, इंटरनेट सिस्टम और वेबसाइटों के माध्यम से लोगों, व्यापारियों एवं राजनेताओं में मानो कोई दूरी ही नहीं रह गई। आज हम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विश्व के किसी भी कौने में होने वाले कार्यक्रमों में सक्रिय भागीदारी कर सकते हैं। इससे हमारे समय और धन दोनों की बचत होती है।
प्रौद्योगिकी के विकास ने राष्ट्रों की क्षमता को भी बढ़ाया है। राष्ट्र अपने अनिवार्य कार्य जैसेकि कानून व्यवस्था बनाए रखना, बाहरी आक्रमण से राष्ट्र की सुरक्षा करने जैसे मामलों को बेहतर और अधिक प्रभावशाली तरीके से कर सकते हैं। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के विकास का प्रभाव स्वास्थ्य एवं चिकित्सा के क्षेत्र में भी दिखाई देता है। आज घातक से घातक बीमारियों का ईलाज ढूंढ कर मानव को स्वस्थ रखने के उपाय ढूंढ लिए गए हैं। इसका प्रभाव हमें कृषि, परिवहन, शिक्षा के क्षेत्रों में भी हुए क्रांतिकारी परिवर्तनों के रूप में देखने को मिलता है।


नकारात्मक प्रभाव

सूचना क्रांति के इस दौर में साइबर क्राइम या सूचना प्रौद्योगिकी द्वारा होने वाले आर्थिक अपराध चिंता के नए विषय है। अगला विश्वयुद्ध साईबर युद्धों का हो सकता है। दुश्मन राष्ट्र की समूची रक्षा प्रणाली को घर बैठे ध्वस्त किया जा सकता है। इसका एक और महत्वपूर्ण नकारात्मक प्रभाव यह है कि आतंकवाद के विस्तार में इसकी बहुत बड़ी भूमिका रही है। सेटेलाइट फोन, इंटरनेट, मोबाइल फोन आदि का इस्तेमाल आतंकवादियों ने आतंक फैलाने के लिए किया है।
शिक्षा का क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं रहा है। आज शिक्षा एक आयामी होता जा रहा है। आज शिक्षण संस्थाएं व्यवसायिक शिक्षा को प्रमुखता दे रही है, जो बाजार के लिए उपयोगी कौशल प्रदान कर सकें। आपने देखा होगा कि आजकल के छात्र बी.., एम.. करने की जगह 10वीं 12वीं की पढ़ाई करते समय आईआईटी, पॉलिटेक्निक की तैयारी में जुट जाते हैं और वहीं पर एडमिशन लेना चाहते हैं। जबकि सामाजिक विज्ञान से संबंधित विषय जैसे इतिहास, राजनीति विज्ञान जैसे विषयों पर सरकार और जनता उदासीन प्रतीत होती दिख रही है। इसकी एक और आलोचना यह है कि वैश्विकृत विश्व में विज्ञान एवं तकनीकी के विकास की सबसे भारी कीमत हमारे पर्यावरण को चुकानी पड़ी है। ओजोन परत का रिक्तिकरण, ग्लोबल-वॉर्मिंग जैसे परिणाम वैश्वीकरण की ही देन है। विकास की इस अंधी दौड़ में शहरीकरण एवं औद्योगिकरण के नाम पर विशेष आर्थिक क्षेत्र के लिए लाख-लाखों पेड़ काट दिए जाते हैं। जो कि हमेशा चिंता का विषय रहे हैं। इसका सबसे नकारात्मक प्रभाव गरीब राष्ट्रों की जनता खासकर किसानों एवं आदिवासियों के जीवन पर पड़ा है।


निष्कर्ष  (Conclusion)

संक्षेप में, उपरोक्त विवरण में हमने जाना कि वैश्वीकरण एक बहुआयामी प्रक्रिया है, जिसके चार आयाम है; आर्थिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक और प्रौद्योगिकी। इन चारों आयामों के जहां कुछ सकारात्मक प्रभाव एवं परिणाम है, वहीं इनके कुछ नकारात्मक प्रभाव एवं परिणाम भी है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि वैश्वीकरण पर उपरोक्त चर्चा से हमें ज्ञात होता है कि वैश्वीकरण का मानव जीवन के समस्त क्षेत्रों में व्यापक बदलाव आया है। एक तरफ शासन व्यवस्था, दूरसंचार, शिक्षा, स्वास्थ्य क्षेत्र में हुए क्रांतिकारी परिवर्तनों ने मानव जीवन को सरल और सुविधा युक्त बना दिया है, वहीं दूसरी तरफ गरीब राष्ट्रों एवं खासकर विभिन्न राष्ट्रों के कमज़ोर तबको पर भयानक नकारात्मक प्रभाव पड़े हैं। उनके रोजगार, स्वास्थ्य, शिक्षा, आवास जैसी मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति एवं गुणवत्ता में आई गिरावट देखने को मिलती है।

वैश्वीकरण से संबंधित प्रश्न

  • ·        वैश्वीकरण क्या है? इसके विभिन्न आयामों पर चर्चा कीजिए?
  • ·        वैश्वीकरण क्या है? इसके विभिन्न आयामों का आलोचनात्मक मूल्यांकन कीजिए?
  • ·      वैश्वीकरण की अवधारणा से आप क्या समझते हैं? इसके संदर्भ में राष्ट्र की बदलती भूमिका पर आलोचनात्मक निबंध लिखिए?
  • ·        वैश्वीकरण का विकासशील और अविकसित राष्ट्रों पर पड़ने वाले प्रभावों की चर्चा कीजिए?
  • ·        वैश्वीकरण के आर्थिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक एवं प्रौद्योगिकी प्रभाव लिखिए?
  • ·        वैश्वीकरण के आर्थिक और राजनीतिक आयामों पर प्रकाश डालिए?


“मुफ्त शिक्षा सबका अधिकार आओ सब मिलकर करे इस सपने को साकार”











THE END





Post a Comment

0 Comments