UGC ने जारी की प्रधानमंत्री रिसर्च फैलो की संशोधित गाइडलाइंस, पीएचडी कर रहे छात्रों को मिलेगा लाभ - देखें डीटेल्स

अब पहले से पीएचडी छात्रों को भी प्रधानमंत्री रिसर्च फैलो (पीएमआरएफ) के लिए आवेदन कर सकेंगे। यूजीसी ने इसकी गाइडलाइंस में बदलाव कर दिया है। इसके तहत 12 से 24 महीने की पीएचडी कर चुके छात्रों  को पीएमआरएफ के लिए लेटरल एंट्री के जरिए आवेदन कर सकेंगे।

प्रधानमंत्री रिसर्च फैलो के तहत शोध करने वाले युवाओं को पहले दो वर्षों में हर साल 70 हजार रुपये इसके बाद तीसरे वर्ष में 75 हजार और चौथे और पांचवें वर्ष में 80 हजार रुपये सालाना दिया जाता है। अभी तक इसके लिए केवल डायरेक्ट एंट्री का ही प्रावधान था। इसे अब दो विकल्पों में बदल कर दिया गया है। अब डायरेक्ट एंट्री के साथ ही लेटरल एंट्री के तहत भी आवेदन किया जा सकता है। जुलाई से आवेदन प्रक्रिया शुरू होने जा रही है। लेटरल एंट्री के तहत इंटरव्यू के आधार पर प्रवेश मिलेगा। 

पीएमआरएफ के तहत अभी तक केवल केंद्रीय विवि, आईआईटी और आईआईएससी बंगलूरू के छात्रों को ही लाभ दिया जा रहा था। अब इसका दायरा बढ़ा दिया गया है। इन सभी संस्थानों के साथ ही देश में जितने भी संस्थान एनआईआरएफ की रैंकिंग में टॉप-25 में आए हैं, उनके छात्रों को भी इस योजना का लाभ मिलेगा।

Research Fellows (PMRF) Scheme

Post a Comment

0 Comments